Full Form

NGO Full Form In Hindi- NGO Kya hai? NGO Ka Full Form

इस आर्टिकल में आपको NGO Full Form In Hindi के बारे में बताया जाएगा। यह एक बहुत बेहतरीन काम है, अगर आपको NGO खोलना है तो आप इसे खोल सकते है, लेकिन आपका इसमें कोई भी स्वार्थ नहीं रहना चाहिए, क्योकि यह एक पुण्य का काम होता है, आपको ये जानकर हैरानी हो सकती है, की इस देश में सैकड़ो की संख्या में NGO खुला हुआ है, लेकिन बहुत से ऐसे भी NGO खुला हुआ है जो अपने स्वार्थ के लिए खोले हुए है लेकिन निस्वार्थ ज्यादा देखने को मिल सकता है,

NGO हर जगह यानि सभी देशो में होता है, और ज्यादातर जो लोग दयावान होते है, और दयावान के साथ साथ वो थोड़े बहुत पैसे वाले होते है, वही NGO को खुलवाते है और बिना किसी स्वार्थ और लाभ के इसी में लगे रहते है, आगे हम बात करेंगे की NGO क्या है और NGO खोलने से क्या होता है और NGO कितने तरह के होते है, अगर आप भी NGO खोलना चाहते है तो आप कैसे खोल सकते है?

इसके साथ ही मैं आपको इसके काम के बारे में भी पूरी जानकारिया बताऊंगा, जिससे आपको NGO की पूरी जानकारिया मिल सके। और रही बात NGO Full Form In Hindi की तो इसी से मैं आपको NGO के बारे में बताना शुरू करूँगा, तो चलिए शुरू करते है NGO की पूरी जानकरियों का अध्यन।

NGO Full Form In Hindi

दोस्तों हमारे देश में बहुत से लोग है, जिन्होंने NGO को खोला हुआ है, और उनको सर्कार के द्वारा भी कुछ लाभ मिल जाते है, और बहुत से NGO ऐसे भी है जिसे सरकार के द्वारा खुलवाया गया है, क्या आप जानते है, NGO बहुत की तरह के होते है, अगर नहीं जानते है तो कोई समस्या नहीं है

क्योकि मैं आपको इसके बारे में भी बताऊंगा आगे चलकर बताऊंगा, फील मैं आपको NGO Full Form In Hindi के बारे में बता देता हु इसका पूरा नाम हिंदी में ग़ैर सरकारी संगठन जिसे ENGLISH में Non-Governmental Organizations कहते है, सायद आप इसके बारे में थोड़े बहुत जानते होंगे लेकिन आपको मैं इसकी हर एक जानकारी को आपको विस्तार से बताऊंगा।

NGO Kya Hai, Or NGO से क्या समझते है?

NGO एक तरह का संसथान है, जहाँ बूढ़े बेसहारा या जिसको परिवार वाले ठुकरा दिए है वही लोगो को यहाँ रुकने और जिंदगी के अंतिन समय तक संस्थानों के द्वारा देख भाल किया जाता है, अगर कोई बच्चा भी अपने घरो से बिछड़ जाता है, तो उनके लिए भी NGO का दरवाजा खुला होता है, और उनके देख भाल के लिए अच्छी व्यवस्था भी दी जाती है, NGO को बहुत से नमो से जाना जाता है, जैसे बृद्धा आश्रम, और बच्चो के लिए एक अलग आश्रम होता है, और जो बेसहारा है उनके लिए लिए भी अलग अलग आश्रम होते है।

NGO का मतलब होता है गैर सरकारी संगठन जिसे आप नॉन गवर्नमेंटल ऑर्गनाइजेशन्स भी कह सकते है, इसका हमेसा से एक ही उदेश्य होता है, बच्चे, बुजुर्गो, जानवरो, बीमारों, बेसहारो इन सब की सेवा करना इन सभी को सहारा देना इसकी देख भाल करना यही करना इनका काम होता है, आज के समय में जहाँ लोग सिर्फ अपनी फायदा सोचते है वही इन सभी NGO को चलने वालो ने इतनी अच्छी कामो को अंजाम दिया है।

सभी राज्य के लिए अलग अलग नियम है, उसी के आधार पर आप NGO में काम कर सकते है या आप NGO को खोल सकते है, निस्वार्थ काम करने वालो के लिए बहुत से अप्रोचुनिटी भी आती है जैसे बहुत से कंपनियों या बहुत से लोगो के द्वारा आपको डोनेशन भी दिया जाता है, और इस नेक काम के लिए अगर आप किसी से भी सहायता मांगेंगे तो आपको ज्यादातर निराश का सामना नहीं करना पड़ेगा।

NGO के प्रकार कितने होते है?

  1. INGO: International Non-Governmental Organizations अंतर्राष्ट्रीय गैर-सरकारी संगठन
  2. BINGO: Business-Friendly international NGO – व्यापार के अनुकूल अंतरराष्ट्रीय एनजीओ
  3. GONGO: Government Organized NGO – सरकार द्वारा आयोजित एनजीओ
  4. CSO: Civil Society Organization – नागरिक समाज संगठन
  5. QUANGO: Quasi-autonomous Non-Governmental Organizations – अर्ध-स्वायत्त गैर-सरकारी संगठन
  6. ENGO: Environmental Non-Governmental Organizations – पर्यावरण गैर-सरकारी संगठन

भारत में शुरू करने के लिए NGO प्रक्रिया क्या है?

NGO FULL FORM IN HINDI

अगर आप भारत में NGO को खोलना चाहते है तो इसकी कुछ प्रक्रिया होती है, जिसे पूरा करने के बाद ही NGO को खोल सकते है, ये ज्यादा मुश्किल नहीं है, थोड़े प्रोसेस के बाद आप NGO को खोलने का अधिकार आपको मिल जाएगी। सबसे पहले आप कुछ लोगो को अपने साथ जोर लीजिए लगभग 11 लोगो की आपको जरुरत पर सकती है, और आप उन्हें ही इसमें शामिल करे जो दिल से इन सभी का सेवा करना चाहता हो, जब आपके पास कुछ लोग जुड़ जाए उसके बाद आप सभी मिलकर एक REGISTRATION तैयार करले।

जब आप रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरा कर ले, उसके बाद आप पहले ये जान ले आपको किस तरह का NGO खोलना है, क्योकि ये तीन तरह के होते है, जिसका मैं आपको विस्तार से बता देता हु।

Society Act (समाज अधिनियम ): – सबसे पहले बात करते है Society Act (समाज अधिनियम ) की, अगर आप इसके अधिनियम के तहत रजिस्ट्रेशन करवाना चाहते है तो आप को मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन एंड रूल्स एंड रेगुलेशन डॉक्यूमेंट KI जरुरत पड़ेगी।

Society act (समाज अधिनियम) के अंतर्गत NGO REGISTRATION दो तरह से होता है। पहला केंद्र पर और दूसरा राज्य के आधार पर:

  • केंद्र पर NGO बनाना है तो उसके लिए 11 लोगो की जरुरत होगी जिसे मैंने आपको पहले ही बता दिया है और केंद्र के आधार से बना रहे है तो आपको 11 लोग अलग अलग राज्य से होने चाहिए, अगर आप केंद्र के आधार पर रजिस्ट्रेशन करवाते है तो आपको पुरे राज्य से के लिए सेवा प्रदान करने का मौका मिलेगा और ये NGO पुरे देश में सेवा दे सकती है.
  • अगर आप राज्य के आधार पर NGO को बनाना चाहते है तो आपको सिर्फ 7 लोगो की ही जरुरत पड़ेगी और वो 7 लोग आप अपने ही राज्य या जिला या नजदीकी घर से भी ले सकते है और अगर आप राज्य स्तर पर कर रहे है तो आप जिस राज्य के लिए कर रहे है उस राज्य में किसी जगह पर सेवा देने का मौका दे सकते है.

Trust Act (ट्रस्ट अधिनियम) :- अब बात करे ट्रस्ट अधिनियम की तो हमारे देश के हर राज्य में अलग अलग ट्रस्ट अधिनियम है, और इसके तहत आप रेजिस्ट्रेशन करवा सकते है अगर उस राज्य में ट्रस्ट अधिनियम नहीं है तो उस राज्य में ट्रस्ट एक्ट 1882 लागु करवाना होता है, और इस एक्ट के तहत दो ट्रस्ट जरुरी होता है।

Company Act (कंपनी अधिनियम):- इस अधिनियम को रजिस्टर करने के लिए आपको सिर्फ 2 लोगो की जरुरत परती है और इस अधिनियम में मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन एंड रूल्स एंड रेगुलेशन डॉक्यूमेंट की जरुरत भी होती है।

NGO के काम ( WORK OF NGO)

नॉन गवर्नमेंटल ऑर्गनाइजेशन्स इसके द्वारा बहुत ही अच्छे कार्य किये जाते है, जिससे बेसहारा, बच्चे, बूढ़े, जानवरो की देख बाल होती है, जिसे सामाजिक कार्य भी कह सकते है, अगर आप भी NGO में काम करना चाहते है या खोलना चाहते है तो आपको उसके जगहों की अच्छे से जानकारी लेनी होगी, वहां क्या क्या समस्याए हो रही है उसे देखना होगा उसे बारीकी से जनाना होगा।

तभी आप किसी NGO में काम कर सकते है या वहाँ आप NGO खोल सकते है कुछ NGO के कामो के बारे में मैं निचे बता दे रहा हु:-

  1. गरीब लोगो की समश्याओ को दूर करना उनको किसी की कमी महसूस नहीं होने देना
  2. बच्चे से काम करवाने वालो के ऊपर करवाई करवाना
  3. ह्यूमन राइट्स के सिस्टम के खिलाफ प्रोटेस्ट करना
  4. बेसहारा लोगो को घर की समश्याओ को दूर करना और उनके लिए खाने का वयवस्था करवाना
  5. विधवा के लिए भी घरो और खानो की वयवस्था करवाना
  6. किसी आपदा में लोगो की जरूरतों को पूरा करना
  7. बच्चो को पढ़ना और कामयाबी तक पहुंचना
  8. वातावरण को बचने के लिए पेड़ो को लगाना और उसकी सुरक्षा करवाना

ये सभी काम करने के बाद भी बहुत से ऐसे काम है जिसे NGO के द्वारा किया जाता है, और सभी बेसाशारो की समस्या का निदान करना इनका काम होता है।

IPL Full Form In Hindi

भारत के सबसे लोकप्रिय गैर सरकारी संगठन(NGO)

  1. LEPRA India – लेपरा इंडिया
  2. HelpAge India – हेल्पएज इंडिया
  3. Sammaan Foundation – सम्मान फाउंडेशन
  4. Child Rights and You (CRY) – बाल अधिकार और आप
  5. Give India Foundation – गिव इंडिया फाउंडेशन
  6. K C Mahindra Education Trust (Nanhi Kali) – के सी महिंद्रा एजुकेशन ट्रस्ट (नन्ही कली)
  7. The Askhaya Patra Foundation – अक्षय पात्र फाउंडेशन
  8. Childline India Foundation – चाइल्डलाइन इंडिया फाउंडेशन
  9. a voice, an effort – .एक आवाज, एक प्रयास
  10. Care India – केयर इंडिया

अंतिन शब्द

दोस्तों उम्मीद है की आपको ‘NGO Full Form In Hindi- NGO Kya hai?‘ इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद अच्छी तरह से समझ में आया होगा, और आपलोगो को इस आर्टिकल से मदद मिली हो तो कमेंट में बताए और कुछ और भी जानकारिया चाहिए तो भी कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है और अपने दोस्तों के साथ भी इस पोस्ट को शेयर करे। धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button