blogging

Internal link Kya Hai _ Internal link क्या है और SEO के लिए क्यों जरुरी होता है?

Internal link Kya Hai और SEO के लिए क्यों जरुरी होता है?

दोस्तों आज मैं आपलोगो को Internal link Kya Hai इसी के बारे में बताने वाला हु, और आपको इसके बारे में जानकर बहुत ज्यादा मदद मिलने वाली है, अगर आप एक ब्लॉगर है तो, अगर आप अपने जीवन में ब्लॉग्गिंग करने वाले है तो आपको Internal link Kya Hai? इसके बारे में जान लेंगे, तो आपको ब्लॉग्गिंग करते समय में कोई परेशानी नहीं होगी। की Internal link Kya Hai? और Internal link SEO के लिए क्यों जरुरी होता है।

और आपको ये मालूम होना चाहिए की ON PAGE SEO का क्या महत्व होता है Internal link में और आप ब्लॉगर है तो आप इसे थोड़ा बहुत समझते होंगे लेकिन आपको ठीक से इसके बारे में मालूम नहीं होगा, क्योकि बहुत को तो Internal link के बारे ये भी कहते है की इसकी कोई जरुरत नहीं होती है, लेकिन ये उनकी गलत फैमी है।

ऑन पेज SEO का Internal link में बहुत महतव है क्योकि इसी से आपकी एक पेज पहला रैंक कर रहा है तो आपका और भी पेज Internal link के वजह से रैंकिंग और आपके ब्लॉग में जो ट्रैफिक आएँगे वो सब इंटरनल लिंक के वजह से ही आएंगे।

अगर कोई एक ब्लॉगर है और उनको Internal link का ठीक से जानकारी नहीं है तो उनका इंटरनल लिंक के वजह से भी उनका पोस्ट रैंक नहीं करता है यही कारण है की जो नए ब्लॉगर होते है उनका पेज पहला पेज पर रैंक नहीं करता है और वो हार मन जाते है, और ब्लॉग्गिंग को छोर भी देते है, और वही जाकर किसी किसी के कहते रहते है की ब्लॉग्गिंग से पैसे नहीं कमा सकते है।

और आप इस पोस्ट को अच्छे से पढ़िए ये तो अभी तक इसके महत्व के बारे में ही मैं बता रहा था उम्मीद है की आप Internal link के बारे में जानकर इसका इस्तेमाल ठीक तरीके से कर सकेंगे और आप एक अच्छे ब्लॉगर बन सकेंगे और इससे अच्छा पैसा भी इनकम कर सकेंगे, तो कहिल्यै शुरू करते है, इसकी पूरी बातो को तथा आपको ठीक से समझ पाएंगे।

Internal link Kya Hai ?

आप सबसे पहले जानना चाहेंगे की Internal link आखिर है क्या और इसका महतव क्या है? तो मैं आपको बता दू की Internal link एक तरह का हाइपरलिंक्स होते है, जो की आपके खुद के वेबसाइट में एक पोस्ट के लिंक को दूसरे पोस्ट के लिंक से जोरता है यानि सब आपस में एक दूसरे से जुड़े रहता है Internal link की सहायता से, और आपने किसी और वेबसाइट का भी लिंक दिया है तो उससे उस वेबसाइट को फायदा हो होता है क्योकि आपके पोस्ट पैर जितने लोग आएँगे वो अगर उस लिंक पर क्लिक करेंगे तो दूसरे वेबसाइट या जो लिंक आपने दिया है उसपर चला जाएगा जिससे उस वेबसाइट पर भी ट्रैफिक आना शुरू हो जाएगा।

SEO के लिए internal link क्यों जरुरी होता है?

SEO का आपको पूरा नाम तो मालूम ही होगा, अगर नहीं है तो इसका पूरा नाम Search Engine Optimization होता है और सबसे पहली बात जब आप internal link को अपने पोस्ट में लगते है तो उससे आपकी 100 SEO में से कुछ SEO कम्प्लीट भी हो जाता है, जिससे आप अपनी लिंक को भी अच्छे से डालकर अपने पेज को अच्छे रैंक पर ला सकते हो।

और आपने GOOGLEBOT के बारे में सुना ही होगा अगर नहीं तो ये हमारे पेज को इंडेक्स करने में मदद करता है, अगर आपने अपने साइट पर internal link अच्छे से किया है तो GOOGLEBOT आपके पोस्ट को अच्छे से क्रॉल भी करता है, तथा गूगलेबोट को भी आपके पेज को रैंक करने में आसानी होती है, वो क्रॉल भी internal link के वजह से भी मदद करता है।

इन्हे भी पढ़े:-

Internal links add करने के फायदे? 

Internal links को ऐड करने से बहुत फायदे होते है एक फायदे का जिक्र मैंने ऊपर कर दिया है लेकिन इससे और भी फायदे है जीने मैं निचे बाने जा रहा हु:-

  • internal link से Post जल्दी index होता है:- Internal links को ऐड करने से आपको फायदा होता है जैसे की मैंने ऊपर के पैराग्राफ में बताया है की गूगलेबोट को आपके आर्टिकल को इंडेक्स करने में फायदा होती है जिससे की आपका आर्टिकल यानि आपकी जो पोस्ट होती है उसका रैंकिंग आगे बढ़ने लगता है।
  • Internal link से Link Juice भी पास होते है:- इंटरनल लिंक के बारे में आप जानते है लेकिन Link Juice आपको नया नाम लग रहा होगा लेकिन मैं बताऊंगा तो आपको जल्दी समझ आ जाएगी जब आप अपने पोस्ट को किसी और पोस्ट में लिंकिंग यानि जोरते है तो Link Juice पास होता है और जब ये पास होता है तभी आपके पोस्ट में रैंकिंग होती है तथा इसी के वजह से आपके साइट की यानि डोमेन की अथॉरिटी में इम्प्रूव होती है और आपके वेबसाइट का वैल्यू बढ़ने लगता है।
  • Internal Link से आर्टिकल SEO friendly बन जाती है:- जब आप Internal Link का उपयोग करते है तो आपकी पोस्ट SEO friendly बन जाती है और इसी वजह से जो विज़िटर्स आते है वो आपकी पोस्ट को पढ़ते है और उन्हें एक लिंक से किसी और पोस्ट में जा कर के भी पोस्टो को पढ़ते है और जितना समय कोई व्यक्ति आपके पोस्ट पैर बिताएगा इससे ये फायदा होगा की गूगल आपकी पोस्ट को विजिट करके रैंक को बढ़ता रहता है जिससे आपका पेज व्यू बढ़ता है।
  • . CTR तथ बाउंस Rate में सुधार होता है:- आप अगर एक ब्लॉगर होंगे तो आपको मालूम ही होगा की CTR क्या होता है जितना ज्यादा CTR होगा उतना आपका बाउंस रेट कम होता रहता है और अगर आप इंटरनल लिंक आपकी वेबसाइट पर होगी तो आपको क्लिक भी मिलेगा जिससे यह फायदा होगा की आपका CTR बढ़ेगा और इसी के वजह से हमरी सीट पर लोग ज्यादा समय दे पाएंगे।

Internal link का प्रयोग कैसे करते है?

आशा करता हु की आपको Internal link का क्या काम है और इसका कितना महत्व है, आपको समझ में आ गया होगा। लेकिन जो नए है उनके लिए मैं Internal link का प्रयोग कैसे करते है? ये पैराग्राफ भी लिखकर बता रहा हु, और आपको इसके बारे में अच्छी तरह से बताऊंगा की आप इसका इस्तेमाल कैसे कर सकते है, चाहे वो लिंक आप कही से लेकर के ही अपने वेबसाइट पर क्यों न डाले लेकिन अगर आप अपने आर्टिकल का लिंक डालते है तो आपकी साइट और भी ज्यादा बेहतर हो जाएगा यानि आपकी वेबसाइट पर बहुत से लोग और बहुत देर तक रुक कर के पढ़ेंगे, जिससे आपकी वेबसाइट की ऑर्थोरिटी बढ़ जाएगी।

सबसे पहली बात आपको Anchor Text का आपको सही तरीके से उपयोग में लाना यानि जब आप लिंक्स को ऐड खाएंगे तो वह आपका माउस बॉटम जाए तो तीर (arrow) के नीसाण से हाथ (HAND) का निशान आ जाना जिससे आपको भी मालूम हो जाएगा आपने इसका कैसे इस्तेमाल किया है।

और दूसरी बात जब आप इंटरनल लिंक्स का इस्तेमाल करते है तो आप DO FOLLOW और NO FOLLOW दोनों लिंक का उपयोग न करे, सिर्फ आप DO FOLLOW का ही इस्तेमाल करे बहुत ब्लॉगर NO FOLLOW लिंक्स का इस्तेमाल करते है लेकिन मुझे ये सही नहीं लगता है, और आप भी इसका इस्तेमाल न करे तो बेहतर होगा।

सबसे जरुरी बात आप जो पोस्ट लिख रहे है उसी से सम्बंधित ही लिंक लगाए, क्योकि कोई विज़िटर आपके वेबसाइट पर जानने के लिए आएगा SEO क्या है और आपने INTERNAL LINKS AMAZONE एफ्लीएट मार्केटिंग का दाल रखा है तो जाहिर सी बात है कोई भी विजिटर उस पर क्लिक करना नहीं चाहेगा।

चलिए अब मैं आपलोगो को स्क्रीनशॉट के जरिए आपलोगो को बताने जा रहा हु की आप Internal link का प्रयोग कैसे कर सकते है:-

Internal link Kya Hai
Internal link Kya Hai

जब आप अपने पोस्ट को लिख लेंगे, उसके बाद आपको जिसका लिंक ADD करना है, उसे आप एक नया पैराग्राफ पर लिख लेंगे, जैसे WIKIPEDIA को लिख लेंगे उसके बाद विकिपीडिया को सेलेक्ट कर लेंगे सेलेक्ट करने के बाद कुछ ऐसा दिखाई देगा।

Internal link का प्रयोग कैसे करते है?
Internal link का प्रयोग कैसे करते है?

आपको LINK पर क्लिक करना है, जैसे आप निचे देख सकते है, और जिसका लिंक डालना है उसके URL को COPY करके PAST कर लेना है।

उसके बाद आपने जो सेलेक्ट किया है वहाँ उस URL को SUBMIT कर लेना है और आपको तीन लाइन भी लिखा हुआ दिखाई देगा जिसमे से पहला Open in new tab है और दूसरा Set to nofollow है और तीसरा Set to sponsored लिखा हुआ दिखाई दे रहा होगा अगर आप चाहते है की उस लिंक को nofollow करना है तो आप उसे ON कर देंगे।

लेकिन आप मेरी सलाह मानेंगे तो आपको इन सब को कुछ भी नहीं करना है, आप कुछ नहीं करेंगे तो वो DO FOLLOW लिंक हो जाता है, जिससे आपने जिस भी वेबसाइट का लिंक अपने पोस्ट में डाला है उसका ओर्थोरिटी बढ़ता है, इसीलिए ज्यादातर लोग अपने लिंक को ही डालते रहते है। और कोई भी पोस्ट गूगल सर्च में पहले स्थान पर आ जाता है तो उस पोस्ट में बहुत से ब्लॉगर अपने उस लिंक को पहले पेज वाले पोस्ट में डाल देते है।

Internal link Kya Hai

दोस्तों मुझे उम्मीद की आपको Internal link Kya Hai इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको INTERNAL LINK के बारे में पूरी बाते समझ में आ गई होगी। और किसी भी पोस्ट के बारे में जानना हो तो कमेंट में जरूर बताए और अपने दोस्तों को भी बताए जो ब्लॉग्गिंग करते है, और मैं आपलोगो के लिए वर्डप्रेस के बारे में यानि ब्लॉग्गिंग के बारे शुरू से अप्रूवल तक के बारे में बताऊंगा जिससे बिगनर भी ब्लॉग्गिंग कर सकेंगे। कोई और प्रॉब्लम हो तो कमेंट में बताए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button