Full Form

DC Full Form In Hindi

हेलो दोस्तों आज का ये टॉपिक DC Full Form In Hindi बहुत ही आसान है लेकिन मैं आसान इसलिए बोल रहा हु, की आपको DC Full Form In Hindi के बारे में बहुत पहले ही पढ़ा दिया होगा क्योकि DC के बारे में हमें 9TH और 10TH के स्टैंडर्ड में पढ़ा दिया जाता है DC  बिजली से जुड़ी टॉपिक है जिसे मैं आपलोगो को विस्तार से बताने वाला हु। अभी तो फ़िलहाल लोग AC का ज्यादा उपयोग करते है, लेकिन लगभग सन 1888 ई. के करीब DC  करंट का उपयोग होता था। इसका उपयोग इसलिए ज्यादा होता था, क्योकि सबसे पहले DC करंट का आविष्कार हुआ था इसलिए इसका उपयोग ज्यादा होता था।

और आज हम इन्ही सब बातो का जिक्र इस आर्टिकल में करेंगे आपलोगो के मन में इससे सम्बंधित बहुत से Question भी आते होंगे जिन में से और बहुत सारे Questions का Answer मिल जाएगा, मेरे कहने का अर्थ है की लगभग आपको इस आर्टिकल से सभी जानकारी मिल जाएगी। अब मैं कुछ प्रश्न लिखने वाला हु जिसका जवाब मैं एक-एक करके विस्तार से बताऊंगा। जैसे:- DC है क्या? , DC का आविष्कार किसने किया? और DC से सम्बंधित जानकारिया? इन्ही सभी के बारे में आप आगे जानेंगे। लेकिन इन सबसे पहले हम DC Full Form In Hindi के बारे में बात करेंगे।

DC Full Form In Hindi

DC FULL FORM

DC के बारे में आपलोग को मालूम होगा की यह एक बिजली से सम्बंधित है तो मैं आपलोगो को DC Full Form In Hindi के बारे में बता देता हु। तो DC Full Form In Hindi एकदिश धारा होता है, और DC को इंग्लिश में Direct current होता है, इसके नाम से ही आपलोगो को मालूम हो गया होगा की यह एक तरह का करंट है। अब बात करे AC की तो इसका AC Full Form In Hindi प्रत्यावर्ती धारा होता है जिसको इंग्लिश में Alternate current कहते है। AC का उपयोग हमारे वर्तमान समय में ज्यादा किया जा रहा है हालाँकि बहुत से ऐसे स्थान है। और इसके इस्तेमाल

जहाँ DC का ही उपयोग ज्यादा होता है, क्योकि वहाँ AC का करंट नहीं पहुंच पता है। जैसे पहाड़ी क्षेत्रो में या जंगली क्षेत्रो में ज्यादा DC का ही उपयोग होता है। अधिकांशत लोग सोलर लगाकर बैटरी को चार्ज करके DC करंट का इस्तेमाल करते है, इसका इस्तेमाल इसलिए लोग करते है क्योकि सोलर को कही भी लगाकर धुप की सहायता से बैटरी को चार्ज कर सकते है, और लोग इमरजेंसी के लिए भी DC यानि की बैटरी का उपयोग करते है AC के सहायता से इन्वर्टर से बैटरी को चार्ज कर लेते है और जब बिजली चली जाती है तो इसके इस्तेमाल से बिजली का लाभ आप उठा सकते है।

अगर आपको और ऐसी जानकारिया चाहिए तो PAGALNEWS.COM पर क्लिक करे।

DC है क्या? और इसके इस्तेमाल

DC KYA HAI , WHAT IS DC

DC एक तरह का करंट है जिसका इस्तेमाल हमलोग आमतौर पर करते है जब बिजली चली जाती है, लेकिन जैसा की मैंने पहले ही बताया है की इसका इस्तेमाल लोग रोज भी करते है जहा बिजली नहीं पहुंच पाती है। सोलर और बैटरी को आप कही भी ले जा सकते है, सिर्फ इसको धुप की जरुरत होती है, आप कही लगाकर अपने बैटरी को चार्ज करके इंवटऱ की सहायता से बिजली का लाभ उठा सकते है। Direct current जयादातर बैटरी में और चार्जर जैसे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में होते है।

DC करंट का आविष्कार?

Direct current का अविष्कार निकोला टेस्ला ने किया है जिनका जन्म 10 जुलाई 1856 में हुआ था। यही वो इंसान है जिसने Alternate current का भी आविष्कार किया है, इनकी मृत्यु 7 जनवरी 1943 को हुई थी इनका लाश कमरे में पाया गया था। ये एक अंग्रेज थे। इन्होने 200 से ज्यादा अविष्कार किये है। और 1890 के दशक में निकोला टेस्ला ने उच्च वोल्टेज ट्रांसफार्मर का भी आविष्कार किया था। जिसे विधुत मीटर को बेहतर प्रकाश मिला, टेस्ला एक कुंडली के रूप में भी जाने जाते है।

DC INFORMATION

इन्होने गूग्लैमो मार्कोनी के साथ दो साल पहले ही एक्स-रे के साथ में इसका प्रयोग भी किया था। और रेडियो संचार के लिए भी छोटे प्रदर्शन वाले को प्रदर्शन प्रदान किया था। और साथ में, टेस्ला और वेस्टिंगहाउस ने शिकागो में ही 1891 में दुनिया की कोलंबियन प्रदर्शनी को प्रकाशित की और नियाग्रा फाल्स पे AC जेनरेटर को स्थापित करने के लिए सामान्य बिजली से भी भागीदारी की इसके बाद भी बहुत से कामो को अंजाम दिया।

अंतिम शब्द

हेलो दोस्तों आपको ये पोस्ट (DC Full Form In Hindi) आपलोगो को कैसा लगा आशा करता हु, की आपको ये पोस्ट अच्छा ही लगा होगा और ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो कमेंट में बताए, मेरा नाम राजा शर्मा और मैंने ग्रेजुएशन किया है और साथ में मैंने बहुत सारी कंप्यूटर कोर्से भी किया है तो दोस्तों मैं आशा करता हु की आपको इस (DC Full Form In Hindi) आर्टिकल को पढ़ने और समझने में कोई परेशानी नहीं हुई होगी अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी होगी तो आप इसको शेयर जरूर करे। LLB Full Form In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button